Posted in DPL Activities

दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी तथा गाँधी स्मृति एवं दर्शन समिति के संयुक्त तत्वावधान में दिनांक 17.05.2019 को डॉ. बी.एन. पांडे सभागार, गाँधी स्मृति एवं दर्शन समिति, राजघाट, नई दिल्ली में “गाँधी अहिंसा : पुस्तकालयाध्यक्षों के लिए महत्व” एवं “आज के पुस्तकालय में सूचना ज्ञान का महत्व” विषयों पर परिचर्चा का आयोजन किया गया । इस कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता डॉ. रामशरण गौड़, अध्यक्ष, दिल्ली लाइब्रेरी बोर्ड द्वारा की गई | इस कार्यक्रम में श्री राजेश कुमार सिंह, निदेशक(पुस्तकालय), संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार उपस्थित थे | इस कार्यक्रम मुख्य अतिथि के रूप में मुख्य रूप से श्री दीपंकर श्री ज्ञान, निदेशक, गाँधी स्मृति एवं दर्शन समिति भी उपस्थित रहे | इस सत्र का सार-संबोधन डॉ.एच.के.कौल, निदेशक, डेवलपिंग लाइब्रेरी नेटवर्क, दिल्ली द्वारा किया गया | कार्यक्रम के प्रथम सत्र की अध्यक्षता डॉ. विनोद बब्बर, वरिष्ठ साहित्यकार एवं चिंतक द्वारा की गई | इस सत्र में “पुस्तकालयों के लिए अहिंसा सम्प्रेषण” विषय पर वक्ता श्री वेद व्यास कुंडु, प्रोग्रामर, गाँधी स्मृति एवं दर्शन समिति द्वारा श्रोताओं को संबोधित किया गया | इस कार्यक्रम के द्वितीय सत्र की अध्यक्षता डॉ. लोकेश शर्मा, महानिदेशक, दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी द्वारा की गई | इस सत्र में “आज के पुस्तकालयों में सूचना ज्ञान का महत्व” विषय पर वक्ता डॉ. बबीता गौड़, वरिष्ठ पुस्तकालय एवं सूचना अधिकारी, दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी द्वारा श्रोताओं को संबोधित किया गया |

g1

“शरीर को अच्छे स्वास्थ्य में रखना एक कर्तव्य है … अन्यथा हम अपने दिमाग को मजबूत और स्पष्ट नहीं रख पाएंगे।” – महात्मा बुद्ध आज दिनांक 07.05.2019 दि. प. ला. के केंद्रीय पुस्तकालय में “महिला स्वास्थ्य एवं स्वच्छता” विषय पर एक परिचर्चा का आयोजन किया गया । परिचर्चा में वक्ता के रूप में डॉ. बबीता गौड़, (वरिष्ठ पुस्तकालय और सूचना अधिकारी, दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी, संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार) ने स्वास्थ्य को सकारात्मक स्थिति के रूप में वर्णित करते हुए, महिलाओं को स्वच्छ व्यवहार और स्वच्छता को अपनाने का सन्देश दिया |